मंदी और महंगाई में अंतर

58 / 100 SEO Score

मंदी और महंगाई में अंतर

मंदी ओर महंगाई का कांसेप्ट Recession and inflation

इसे आप मांग या आपूर्ति का कांसेप्ट भी कह सकते हैं

दोस्तों इन दिनों RBI(भारतीय रिज़र्व बैंक)  लगातार रेपो रेट(RR) में कमी कर रही है और दीर्घकालीन सरकारी प्रतिभूति भी वापस ले रही हैं OR बाजार में मंदी का माहौल हैं तो इस पर चर्चा बनती है!
होता क्या हैं दरअसल RBI  बैंको को लोन देती हैं तो जब लोन देती हैं तो ब्याज की रेट होती हैं उसे कहते हैं रेपो रेट (RR ) और सरकारी प्रतिभूति का मतलब बॉन्ड यानि एक ऐसा कागज होता हैं जो सरकार की एजेंट RBI जारी करती हैं उसे कोई भी बैंक खरीद सकता हैं उसके बदले RBI बैंको को पैसे देती हैं जब वापस खरीदती हैं तब !

यह दो बातें समझने के बाद अब समझते हैं यह चैन कैसे चलती हैं ?
देखिए जब रेपो रेट में कमी करेगी तो बैंको को कम ब्याज में ऋण मिलेगा तो बैंक ज्यादा ऋण लेगी जब ज्यादा ऋण लेगी तो बैंकों के पास ज्यादा पैसे आएंगे जब ज्यादा पैसे आएंगे तो बैंकें लोगों को लोन देने के लिए अपनी ब्याज रेट में कमी करेगी, जब बेंके ब्याज रेट में कमी करेगी तो लोग ज्यादा लोन लेंगे जब लोन लेंगे तो ज्यादा लोगो के पास पैसे आएंगे लोगो के पास पैसे आने का सीधा मतलब  बाजार में पैसे आ जायेगे इसे ही कहते हैं बाजार में तरलता बढ़ गयी जब बाजार में पैसे ज्यादा आ जायेगे तो लोग ज्यादा वस्तुंए  खरीदेंगे,और  ज्यादा वस्तुए खरीदेंगे तो मांग बढ़ेगी, मांग बढ़ेगी तो आपूर्ति भी बढ़ेगी , जब आपूर्ति बढ़ेगी तो उत्पादन भी बढ़ेगा, जब उत्पादन बढ़ेगा तो अर्थव्यवस्था मजबूत होगी और मंदी खत्म हो जाएगी ,
मंदी तो खत्म हो जाएगी लेकिन इसके उल्टा महगाई बढ़ जाएगी क्योकि बाजार में तरलता ज्यादा होगी तो ज्यादा मांग के कारण अगर उतना उत्पादन नहीं है तो चीजों की रेट अपने आप बढ़ जाएगी इसलिए आपको पता है RBI एकदम रेपो रेट में कमी  नहीं करती हैं थोड़ी थोड़ी धीरे धीरे करती हैं !

मंदी और महंगाई में अंतर
अब अगर मार्किट में महंगाई बढ़ गयी हैं तो रेपो रेट बढ़ा देगी बढ़ा देने से इसका उल्टा हो जाएगा और उल्टी चैन चलने लग जाएगी
अब बात करें सरकारी प्रतिभूति की तो

सरकारी प्रतिभूति दो प्रकार की होती हैं
एक दीर्घ कालीन और एक अल्पकालीन वर्तमान में RBI दीर्घकालीन वापस ले रही हैं और अल्पकालीन बेंको को दे रही हैं जिससे बाजार में  जल्दी जल्दी पैसे घूमेंगे और वर्तमान में जो मंदी चल रही हैं यह कम होगी
उम्मीद है आपको समझ में आ गया होगा ,

यह ही हैं मंदी और महंगाई में अंतर

धन्यवाद

Ecomoics

Print Friendly, PDF & Email

RPSC GURU

RPSC GURU IS A EDUCATIONAL WEBSITE A PROVIDE MATHS NOTES , SCIENCE NOTES , WORLD AND INDIAN GEOGRAPHY FOR UPSC IAS PCS RPSC UPPCS , SSC AND ALL GOVT EXAM

Leave a Reply

Close Menu